Engine failure not covered in Motor Insurance Claim insurance can be rejected if wrong information is given

कई बार क्लेम रिजेक्ट होने की बड़ी वजह ये भी होती है कि, कुछ खास चीजें डैमेज पॉलिसी के तहत कवर नहीं होती। जिनके लिए अलग से ऐड-ऑन कवर खरीदने की जरूरत होती है।

अगर आप बीमा कंपनी को बिना बताए अपनी गाड़ी या बाइक में बदलाव कराते हैं। जैसे मान लीजिए आपने अपनी कार में सीएनजी किट लगवाई, एक्सेसरीज जोड़ते हैं या गाड़ी की बॉड़ी में कोई बदलाव करते हैं। तो आपको दुर्घटना के मामले में क्लेम नहीं मिलेगा। क्योंकि कार या बाइक में किए गए बदलावों की जानकारी आपने बीमा कंपनी को नहीं दी। इसके अलावा कई अन्य दूसरी वजह भी हो सकती हैं। जिसके चलते आपका क्लेम रिजेक्ट हो सकता है। आइए जानते इन सभ वजहों के बारे में…..

पॉलिसी की पूरी जानकारी ना होने की वजह – कई बार पॉलिसी धारक को मोटर बीमा की पूरी जानकारी नहीं होती। जिसके चलते बीमा कंपनी क्लेम को रिजेक्ट कर सकती हैं। आपको बता दें मोटर बीमा पॉलिसी के फाइन प्रिंट में कई ऐसी छोटी-छोटी जानकारी होती हैं। जिसमें बताया जाता है कि आपके दावे को बीमा कंपनी किन वजहों से रिजेक्ट कर सकती है। इसलिए जब भी आप मोटर पॉलिसी लें तो उसे पूरी तरह से जरूर पढ़ें।

पॉलिसी और ऐड-ऑन कवर की जानकारी न होना – कई बार क्लेम रिजेक्ट होने की बड़ी वजह ये भी होती है कि, कुछ खास चीजें डैमेज पॉलिसी के तहत कवर नहीं होती। जिनके लिए अलग से ऐड-ऑन कवर खरीदने की जरूरत होती है। उदाहरण के लिए, इंजन खराब होने या डिप्रिसिएशन लॉस को बेसिक पॉलिसी में कवर नहीं मिलता। जिसके लिए आपको अलग से ऐड-ऑन कवर लेना होगा।

कमर्शियल यूज और ट्रांसफर में गलती – कई बार लोग अपने निजी उपयोग के लिए कार खरीदते हैं। लेकिन कुछ दिनों बाद उस वाहन का कमर्शियल यूज शुरू कर देते हैं। ऐसे में अगर दुर्घटना होती है तो क्लेम रिजेक्ट कर दिया जाता है। इसके अलावा सेकेंड हैंड कार में रजिस्ट्रेशन और बीमा ट्रांसफर कराने में देरी होती है। तो भी बीमा कंपनी क्लेम पर विचार नहीं करती हैं।

मरम्मत से पहले दें बीमा कंपनी को जानकारी – कभी भी आपकी गाड़ी में मरम्मत की जरूरत हो। तो सबसे पहले इसकी जानकारी बीमा कंपनी को दें। जिससे कंपनी आपके दावें का आंकलन कर सके और आपको रोड़ साइड मदद पहुंचा कर गाड़ी को गैरेज तक ले जाए।

यह भी पढ़ें: वाहन का इंश्योरेंस रिन्यू कराने से पहले जान लें ये 5 पॉइट, नहीं तो बाद में होगा तगड़ा नुकसान

सही जानकारी कभी ना छुपाए – पॉलिसी खरीदने के समय गलत खुलासे या अन्य फिजिकल तथ्यों का खुलासा नहीं किया गया है, जैसे कि नो-क्लेम बोनस या पूर्व में हुए डैमेज को गलत बताया जाता है तो दावा खारिज होना तय है। इसी तरह, यदि कोई दावा दायर करते समय दुर्घटना या नुकसान के बारे में गलत जानकारी प्रदान करता है, तो इसे रिजेक्ट किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: ड्राइविंग लाइसेंस ना होने और गाड‍़‍ी में मोडिफ‍िकेशन कराने से पहले जानिए वाहन बीमा के यह नियम, वर्ना क्‍लेम हो सकता है रिजेक्‍ट

दुर्घना के समय ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होना – कई बार दुर्घटना के समय पॉलिसी धार के पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होता। ऐसी स्थिति में भी आपका क्लेम रिजेक्ट किया जा सकता है। आपको बता दें जब भी आप ड्राइविंग करें तो अपने साथ वैध लाइसेंस जरूर रखें। उदाहरण के लिए, यदि उसके पास केवल दोपहिया वाहन चलाने का लाइसेंस है, लेकिन कार चलाते समय दुर्घटना हो जाती है, तो क्लेम रिजेक्ट कर दिया जाएगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *